The sermon at banaras by Betty Renshaw

The sermon at banaras by Betty Renshaw CBSE/UP Board Class 10 NCERT English First Flight Book Lesson:-10 Exam oriented question answer, Tick the Correct Option, summary in hindi, match the following.


📚🇮🇳Lesson-10🇮🇳📚

💦The sermon at banaras💦

✴️Short Answer Type Questions____

Q.1. Why did Prince Siddhartha leave the palace and became a beggar ? (राजकुमार सिद्धार्थ ने अपना महल क्यों छोड़ा और भिक्षुक बन गये ? ) 

Ans. Once Prince Siddhartha, while hunting saw a sick man, then an aged man, then a death body and finally a monk begging for alms. Looking at this, he left the palace and became a beggar to search for enlightenment.(एक बार राजकुमार सिद्धार्थ ने शिकार करते हुए एक बीमार आदमी को देखा, फिर एक वृद्ध व्यक्ति, फिर एक मृत शरीर को और अंत में भिक्षा के लिए साधु भीख मांगता हुआ। इसे देखते हुए, उन्होंने महल छोड़ दिया और आत्मज्ञान की खोज करने के लिए एक भिखारी बन गए। ) 

Q. 2. What do you know about the early life of Buddha ?(बुद्ध के प्रारम्भिक जीवन के विषय में आप क्या जानते हैं?) 

Ans. Gautam Buddha was born in a royal family and his childhood name was Siddhartha. At the age of 12 he was sent away for schooling in Hindu Sacred Scriptures. (गौतम बुद्ध का जन्म एक शाही परिवार में हुआ था और उनके बचपन का नाम सिद्धार्थ था। 12 साल की उम्र में, उन्हें हिन्दू पवित्र शास्त्रों में स्कूली शिक्षा के लिए भेज दिया गया था।) 

Q.3. Where did Buddha preach his first sermon?(बुद्ध ने अपना पहला प्रवचन कहाँ दिया?)

Ans. Gautam Buddha preached his first sermon at the city of Benaras. (गौतम बुद्ध ने अपने पहले धर्मोपदेश का प्रचार बनारस शहर में किया था।) 

Q. 4. What was the effect of the sufferings of the world on Buddha ?(बुद्ध के ऊपर विश्व के दुःखों का क्या असर हुआ?) 

Ans. At the age of 25 while hunting, one day Buddha saw a sick man, then an aged man, then a funeral procession. These moved him so much that he went out into the world to seek enlightenment. (25 साल की उम्र में, शिकार करते हुए एक दिन बुद्ध ने एक बीमार आदमी, फिर एक वृद्ध व्यक्ति, फिर एक अंतिम संस्कार का जुलूस देखा। ये बुद्ध को इतना आगे ले गए कि वह आत्मज्ञान की तलाश की दुनिया में चले गये।) 

Q. 5. Why was Kisa Gotami sad ? What did she do in her hour of grief? (किसा गौतमी दुःखी क्यों थी? अपने दुःख में उसने क्या किया?) 

Ans. Kisa Gotami was sad due to the death of her only son. In the hour of grief, she went door to door in order to find medicine for her son that could bring him to life. (अपने इकलौते बेटे की मौत से किसा गौतमी दुःखी थी। दुःख की घड़ी में, वह अपने बेटे के लिए दवा खोजने के लिए घर-घर गई, जिससे उसे जीवन मिल सके।) 

Q. 6. What did Buddha do after he had attained enlightenment?( बुद्ध ने ज्ञान प्राप्ति के बाद क्या किया?)

Ans. When he attained enlightenment, he started preaching and telling people about life and its meaning. (जब बुद्ध ने ज्ञान, प्राप्त किया, तो उन्होंने लोगों को जीवन और उसके अर्थ के बारे में बताना और प्रचार करना शुरू किया।)

Q.7. Where and when did Siddhartha become the Buddha? (कब और कहाँ सिद्धार्थ बुद्ध बने?) 

Ans. One day, seated beneath the Peepal tree, Siddhartha became deeply absorbed in meditation, and reflected on his experience of life. He finally achieved Enlightenment and became the Buddha.(एक दिन, पीपल वृक्ष के नीचे बैठा सिद्धार्थ ध्यान में गहन रूप से लीन हो गया, और जीवन के अपने अनुभव पर परिलक्षित हुआ। अंत में ज्ञान प्राप्त किया और बन गए। बुद्ध बन गए।) 

Q. 8. Which people are referred to as 'wise' by the Buddha in his sermons? (अपने प्रवचनों में बुद्ध ने किन लोगों को 'बुद्धिमान' कहा है ?)

Ans. Buddha preached in his sermons that everthing that is born will come to its end. Death is inevitable. But the people who everthing do not grieve knowing the terms of the world are called wise people. (बुद्ध ने अपने धर्मोपदेश में बताया कि हर वह चीज जो पैदा हुई है उसका अंत निश्चित है। मृत्यु अटल है। लेकिन वे लोग जो संसार के नियमों को जानते हुए दुःखी नहीं होते हैं। वे समझदार लोग कहलाते हैं। ) 

Q. 9. How did the Buddha teach Kisa Gotami the truth of life?(बुद्ध ने किसा गौतमी को जीवन का सत्य कैसे पढ़ाया? ) 

Ans. Buddha changed her thinking with the help of a simple act-asking. Her to procure a handful of mustard seeds from that house where none had died. She understood that death is inevitable.(बुद्ध ने उसकी सोच को एक साधारण कृत्य से बदल दिया। उन्होंने उससे उस घर से मुट्ठी भर सरसों के बीज लाने को कहा जहाँ किसी की मृत्यु नहीं हुई हो। वह समझ गई कि मृत्यु अटल है। ) 

Q. 10. What sights moved Siddhartha to seek the path of enlightenment?(किन दृश्यों ने सिद्धार्थ को ज्ञान का मार्ग ढूँढने के लिये प्रेरित किया ?) 

Ans. While going for hunting Gautam saw a sick man, an old man, a funeral procession and a monk begging and this encounter with the sufferings and he left to seek the path of enlightenment. (शिकार पर जाते हुए गौतम ने एक बीमार व्यक्ति, एक वृद्ध व्यक्ति, एक अंतिम संस्कार यात्रा और एक साधु को भीख मांगते हुए देखा यह पीड़ा और दुःख से भरा दृश्य देखकर उन्होंने आत्मज्ञान का मार्ग तलाशना शुरू कर दिया।) 

✴️Long Answer Type Questions       

Q. 1. Why did Kisa Gotami say' "How selfish am I in my grief!" What did she realise about the fate of mankind ?( किसा गौतमी ने क्यों कहा, मैं अपने दुःख में कितनी स्वार्थी हूँ! 'मानव के भाग्य के विषय में उसने क्या महसूस किया?) 

Ans. Kisa Gotami lost her only son and in her grief, she carried her dead child everywhere and asked people to cure him. In her grief, she forgot that everyone had to suffer such type of loss in his or her family. Death is inevitable. But in her grief, she became selfish and tried to fulfill the condition that was impossible.(किसा गौतमी ने अपना इकलौता बेटा खो दिया। अपने दुःख में, उसने अपने मृत बच्चे को हर जगह पहुँचाया और लोगों से उसे ठीक करने के लिए कहा। उसके दुःख में, वह भूल गई कि हर किसी को अपने या अपने परिवार में इस प्रकार का नुकसान उठाना पड़ता है। मृत्यु अवश्यम्भावी है। लेकिन उसके दुःख में, वह स्वार्थी हो गई, और उस स्थिति को पूरा करने की कोशिश की जो असंभव थी।) 

Q. 2. What did Buddha say about the mortals of the world?( बुद्ध ने संसार के नश्वर प्राणियों के विषय में क्या कहा?) 

Ans. Buddha said that death is inevitable. The life of mortals in this world is troubled and grief and combined with pain. For there is not any means by which those who have been born can avoid dying; after reaching old age, there is death; of such nature are living beings. It is useless to worry about death.(बुद्ध ने कहा कि मृत्यु अपरिहार्य है। इस दुनिया में नश्वर लोगों का जीवन परेशान और दुःखद है और दर्द के साथ संयुक्त हैं। क्योंकि ऐसा कोई साधन नहीं है जिसके द्वारा पैदा हुए लोग मरने से बच सकें, वृद्धावस्था में पहुँचने के बाद, मृत्यु होती है, इस तरह की प्रकृति जीवित प्राणी है। मौत की चिंता करना बेकार है।) 

Q. 3. How did Siddhartha Gautam get enlightenment? Why did he name the big tree as the Bodhi tree?( सिद्धार्थ को ज्ञान कैसे प्राप्त हुआ? उसने उस बड़े वृक्ष का नाम 'बोधि वृक्ष' क्यों रखा?)

Ans. Gautam Buddha wandered for seven years for seeking enlightenment. Finally, he sat down under a big tree. He vowed to stay there until enlightenment came. Enlightened after seven days, he renamed the big tree. It was named Bodhi tree. He gave his first sermon at the city of Benares.(गौतम बुद्ध ज्ञान की खोज में सात साल तक भटके, अंत में वह एक बड़े पेड़ के नीचे बैठ गए और उन्होंने ज्ञान प्राप्त होने तक वहाँ बैठने की प्रतिज्ञा ली। सात दिन बाद ज्ञान प्राप्त होने पर उन्होंने बड़े वृक्ष का नाम बदल दिया। उसका नाम था बोधि वृक्ष और उन्होंने अपना पहला उपदेश बनारस शहर में दिया।) 

Q. 4. Why did Kisa Gotami understand the message given by the Buddha only the second time? In what way did the Buddha change her understanding? (किसा गौतमी को केवल दूसरी बार में ही बुद्ध का संदेश क्यों समझ आया? किस प्रकार बुद्ध ने उसकी समझ को परिवर्तित किया ?) 

Ans. At the command of Buddha, she goes from house to house in search of handful mustard seeds from any house where nobody has ever died. The poor woman returns empty handed. But she learns the precious lesson from the wise Buddha. Death and sorrow are universal and natural process. They come to every family. Human life is full of trials and suffering and each person must overcome them.(बुद्ध के आदेश पर, वह किसी भी घर से मुट्ठी भर सरसों की खोज में घर-घर जाती है जहाँ किसी की भी मृत्यु नहीं हुई हो। गरीब महिला खाली हाथ लौटती है। लेकिन वह बुद्धिमान बुद्ध से अनमोल सबक सीखती है। मृत्यु और दुःख सार्वभौमिक और प्राकृतिक प्रक्रिया है। वे हर परिवार में आते हैं। मानव जीवन परीक्षण और पीड़ा से भरा है और प्रत्येक व्यक्ति को उन्हें दूर करना होगा।) 

Q. 5. Why does Kisa feel disappointment after going from door to door?( किसा हर घर के दरवाजों पर जाकर निराशा क्यों महसूस करती है?)

Ans. When Kisa Gotami went to the Buddha for the medicine to revive her son. The Buddha told her to procure an handful mustard seeds from the house where no one has ever died. Kisa Gotami went door to door, everyone offered her the seeds. But when asked there if anyone had died in the family they could only answer that they had lost many of their loved ones. Kisa Gotami became hopeless and realised that death is common to all. (जब किसा गौतमी बुद्ध के पास गई और उनसे अपने बेटे को वापिस जिंदा करने की प्रार्थना की। बुद्ध ने उसे उस घर से मुट्ठी भर सरसों के दाने को लाने के लिए कहा जहाँ किसी की मृत्यु न हुई है। किसा गौतमी घर-घर गई, सब उसे बीज देने के लिए राजी हो गए। लेकिन जब पूछा कि कोई उनके परिवार में कोई मरा है तब उन्होंने बताया कि उन्होंने अपनों की जानें खोई है। किसा गौतमी आशाहीन हो गई और उन्हें अनुभव हुआ कि मृत्यु सबके लिए आम बात है।) 

✴️Language Study (MCQs)           

1. What was Gautama Buddha's early name?

(a) Sidha 

(b) Sadhu 

(c) SiddharthaSiddhartha✔️

(d) Sidharth

2. What moved him to seek out enlightenment? 

(a) a sick man 

(b) an aged man 

(c) a monk begging

(d) all of the above✔️

3. For how many years did he wander? 

(a) 7 ✔️

(b) 8 

(c) 9

(d) 6

4. Where did he vow to stay until his enlightenment came?

(a) his palace

(b) under peepal tree✔️

(c) under banyan tree

(d) under a tree

5. What did he name the tree?

(a) Bodhi Tree ✔️

(b) Buddha Tree 

(c) Gautama Tree

(d) Siddhartha Tree

6. Which seed did Buddha ask Kisa to bring? 

(a) Pumpkin seeds 

(b) Mustard seeds✔️

(c) Sunflower seeds 

(d) Seesame seeds 

7. How did Kisa feel at first on being unable to find such seeds?

(a) weary

(b) hopeless 

(c) motivated

(d) both (a) and (b)✔️

8. What did the flickering lights made her realise?

(a) She is being selfish 

(b) death is common to all✔️

(c) men are mortals

(d) all of the above

9. What did Buddha tell her about life? 

(a) it is troubled

(b) it is brief

(c) combined with pain 

(d) all of the above✔️

10. Both young and adults, fools and wise fall into the power of_______

(a) life

(b) death✔️

(c) food

(d) all of the above

11. "The wise do not _______ knowing the terms of the world."

(a) laugh 

(b) smile

(c) grieve ✔️

(d) all of the above

12. How old was Siddhartha when he renounced the princely life? 

(a) 22

(b) 32

(c) 35

(d) 25✔️

13. He got enlightenment after how many days?

(a) 10

(b) 15

(c) 7✔️

(d) 1

14. In which city did Buddha deliver his first sermon?

(a) Patna

(b) Benares✔️

(c) Lumbini

(d) Gaya

15. Those who do not grieve are ______

(a) arrogant

(b) proud

(c) happy

(d) wise✔️

✴️Summary in Hindi_____


गौतमबुद्ध (563 ई० पूर्व- 483 ई० पूर्व) एक राजकुमार था। उसका नाम सिद्धार्थ गौतम था। बारह वर्ष की आयु पर उसे हिन्दू पवित्र ग्रंथों में पढ़ाई के लिए स्कूल भेजा गया। वह चार वर्ष के पश्चात् वापस आया। उसने एक राजकुमारी से शादी की। उनका एक लड़का हुआ। गौतम बुद्ध को संसार के दुखों से बचाया गया था। जब वह पच्चीस वर्ष का हुआ तो उसने एक बीमार व्यक्ति देखा, फिर उसने एक वृद्ध पुरुष, फिर एक शव यात्रा देखी अन्त में उसने एक भिक्षुक को भिक्षा माँगते देखा। इन्होंने उसे इतना उदास बना दिया कि वह स्वयं एक भिखारी बन गए। गौतम बुद्ध सात वर्ष तक घुमे अन्त में वह एक वट वृक्ष के नीचे बैठ गया। उसने वहाँ पर जब तक उसे आध्यात्मिक ज्ञान न मिलेगा रुकने की कसम खाई। उसे यह सात दिन पश्चात् मिली। उसने वृक्ष को बुद्धिमत्ता का वृक्ष' नाम दिया। उसने पढ़ाना आरम्भ कर दिया। शीघ्र ही उसे बुद्ध के रूप में जाना गया।बुद्ध ने अपना पहला प्रवचन बनारस में दिया। किसा गोतमी का एक ही पुत्र था और वह मर गया। वह मरे हुए बच्चे को जीवित करने के लिए अपने पड़ोसियों के पास ले गई। उसने दवाई की माँग की। आदमियों ने उसे पागल कहा। अन्त में किसा एक व्यक्ति से मिली। उसने उसे बताया कि उसके पास कोई दवाई नहीं है। परन्तु वह एक डाक्टर को जानता था जो उसके लिए दवाई दे सकता था। किसा गोतमी ने उस मनुष्य के बारे में बताने के लिए कहा। उसने उसे साक्यामुनि बुद्ध के पास जाने के लिए कहा। किसा ने बुद्ध को उसके लड़के का इलाज करने के लिए। दवाई देने के लिए कहा। बुद्ध ने उसे मुट्ठी भर सरसों के बीज लाने को कहा। ये उस घर से होने चाहिएँ जहाँ पर कोई व्यक्ति नहीं मरा हो।किसा गोतमी घर-घर गई। व्यक्तियों ने उसे सरसों के बीज दिए। उसने पूछा कि क्या कोई भी उस घर में नहीं मरा है। उन्होंने उसे उन्हें गहनतम दुख की याद न दिलाने के लिए कहा। किसा गोतमी ऐसे घर से बीज नहीं ले सकी। अन्त में वह रास्ते में थकी और निराश बैठ गई। शीघ्र ही अन्धेरा हो गया। उसने शहर की रोशनी देखी। शीघ्र ही रात का अन्धेरा चारों तरफ फैल गया। उसने व्यक्तियों के भाग्य के बारे में सोचा। उसने सोचा कि वह अपने दुख में वास्तव में खुदगर्ज थी। मृत्यु तो सभी के लिए समान है। फिर भी एक रास्ता है। यह मनुष्य को यदि वह सारी खुदगर्जी को छोड़ दे तो अमरता तक ले जाता है।बुद्ध ने उसे बताया कि मानव जीवन छोटा और कष्टदायी है। कोई भी मरने से बच नहीं सकता है। जो सभी जन्मे हैं वे एक दिन मरेंगे युवा और वृद्ध सभी कुम्हार के बर्तनों की तरह मरेंगे। बनने के बाद वे टूटते हैं।सभी जीवन से चले जाते हैं। एक पिता अपने बेटे को नहीं बचा सकता। सभी सगे-सम्बन्धी गहराई से शोक मनाते हैं। इसलिए संसार पर मृत्यु और क्षीणता के कारण पीड़ा का प्रभाव होता है। बुद्धिमान दुख नहीं मनाते क्योंकि वे सच्चाई को जानते हैं।

किसी को भी रोने या दुख मनाने से मन की शान्ति नहीं मिलेगी। इसके विपरीत उसका कष्ट अधिक होगा। उसका शरीर दुख उठायेगा। मृत व्यक्तियों को दुख दिखाने से बचाया नहीं जा सकता। वह जो शोक मनाने और दुख से परे है उसे मन की शान्ति मिलेगी। वह व्यक्ति जिसने दुखों पर काबू पा लिया है दुख से स्वतन्त्र होगा और उसे आशीर्वाद मिलेगा।

✴️Also read 👇👇

(Footprints without feet) 

🔸Chapter-1 (A Triumph of surgery ) 

🔸Chapter 2(The Thief's Story) 

🔸Lesson-5 (Footprints without feet) 

🔸Chapter-6 ( The Making of a Scientist) 

🔸Chapter-7 ( The Necklace)

🔸Chapter-9 (Bholi) 

(First flight) 

🔸Chapter-4(From the diary of Anne Frank) 

🔸Chapter-7 (Glimpeses of India) 

🔸chapter-9 (Madam rides the bus) 

























एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ