भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन | भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन से संबंधित महत्वपूर्ण आंदोलनों की सूची

भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन से संबंधित महत्वपूर्ण आंदोलनों की सूची

इस पोस्ट में जानेंगे भारत देश में कौन-कौन से आंदोलन हुए हैं और उनसे जुड़ी घटनाएँ क्या हैं किस वर्ष कौन सी घटना घटी और उस घटना का नेत्रत्व किसने किया इस बारे में बहुत ही सरल तरीके से जानेंगे 

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना-  1885 , ए.ओ. ह्यूम (मुंबई)

बंग भंग आंदोलन (स्वदेशी आंदोलन)- 1905 , बंगाल के विभाजन के विरुद्ध

मुस्लिम लीग की स्थापना-  1906 , आगां खान एवं सलीम उल्ला खा 

कांग्रेस का विभाजन- 1907 , नरम एवं गरम दल में विभाजित (सूरत फूट)

होमरूल आंदोलन- 1916 , तिलक एवं एनी बेसेंट

लखनऊ पैक्ट- दिसंबर 1916 , कांग्रेस तथा मुस्लिम लीग के बीच समझौता

मांटेग्यू घोषणा- 20 अगस्त 1917 , भारत मंत्री लॉर्ड मांटेग्यू की घोषणा

रौलट एक्ट- 19 मार्च 1919 , काला कानून, जिसके अंतर्गत किसी भी व्यक्ति को संदेह के आधार पर गिरफ्तार किया जा सकता था

जलियांवाला बाग हत्याकांड- 13 अप्रैल 1919 , जनरल डायर (अमृतसर)

खिलाफत आंदोलन- 1919 , शौकत अली एवं मोहम्मद अली

हंटर कमेटी की रिपोर्ट प्रकाशित- 28 मई 1920 , जलियांवाला बाग से संबंधित

कांग्रेस का नागपुर अधिवेशन- दिसंबर 1920 , असहयोग आंदोलन का प्रस्ताव पारित

चौरी चौरा कांड- 5 फरवरी 1922 , गोरखपुर जिले की इस घटना के बाद असहयोग आंदोलन स्थगित

स्वराज पार्टी की स्थापना- 1 जनवरी 1923 , मोतीलाल नेहरू एवं चितरंजन दास

हिंदुस्तान रिपब्लिक एसोसिएशन- अक्टूबर 1924 , शचीन्र्द सान्याल

साइमन कमीशन की नियुक्ति- 8 नवंबर 1927, जॉन साइमन की अध्यक्षता में 7 सदस्य आयोग का गठन

साइमन कमीशन का भारत आगमन- 3 फरवरी 1928 , भारत में लाला लाजपत राय के नेतृत्व में विरोध एवं उन पर लाठी प्रहार

नेहरू रिपोर्ट- अगस्त 1928 , पंडित मोतीलाल नेहरु अध्यक्ष

वारदोली सत्याग्रह- अक्टूबर 1928 , गुजरात के किसानों का लगान वृद्धि के विरोध में सरदार वल्लभभाई के नेतृत्व में आंदोलन

लाहौर षड्यंत्र केस- 8 अप्रैल 1929 , भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त द्वारा ब्रिटिश असेंबली में बम फेंकना

कांग्रेस का लाहौर अधिवेशन- दिसंबर 1929 , पूर्ण स्वाधीनता का प्रस्ताव

स्वाधीनता दिवस की घोषणा- 2 जनवरी 1930 , 26 जनवरी को स्वाधीनता दिवस के रूप में मनाने की घोषणा

नमक सत्याग्रह- 12 मार्च 1930 से 5 अप्रैल 1930 तक, महात्मा गांधी के द्वारा साबरमती आश्रम से डांडी जाकर नमक बनाकर 'नमक कानून' का उल्लंघन करना

सविनय अवज्ञा आंदोलन- 6 अप्रैल 1930 , सविनय अवज्ञा आंदोलन की शुरुआत

प्रथम गोलमेज सम्मेलन- 12 नवंबर 1930 , प्रधानमंत्री मैकडोनाल्ड की अध्यक्षता में लंदन में आयोजित

गांधी इरविन समझौता- 4 मार्च 1931 , महात्मा गांधी और वायसराय इरविन के मध्य सम्पन्न तथा सविनय अवज्ञा आंदोलन स्थगित करने की घोषणा

द्वितीय गोलमेज सम्मेलन- 7 सितंबर 1931 , गांधीजी ने सम्मेलन में भाग लिया

कम्युनल अवार्ड (सांप्रदायिक पंचाट)- 16 अगस्त 1932 , मैकडोनाल्ड द्वारा पृथक प्रतिनिधित्व प्रदान करना

पूना पैक्ट (येरवादा सेंट्रल जेल)- 24 सितंबर 1932 , गांधी जी और डॉक्टर अंबेडकर के बीच एक समझौता, जिसके सांप्रदायिक पंचाट में दलितों के लिए प्रांतीय विधानसभा में पृथक निर्वाचन प्रणाली को समाप्त कर उनके लिए 71 के बदले 148 स्थान सुरक्षित रखे गए 

तृतीय गोलमेज सम्मेलन- 17 नवंबर 1932 , इसमें कांग्रेस ने भाग नहीं लिया

कांग्रेस सोशलिस्ट पार्टी का गठन- मई 1934 , जयप्रकाश नारायण, मीनू मसानी और एस.एम. जोशी

फॉरवर्ड ब्लॉक का गठन- 1 मई 1939 , सुभाष चंद्र बोस

मुक्ति दिवस- 22 दिसंबर 1939 , मुस्लिम लीग के द्वारा कांग्रेस मंत्रीमंडलो के त्यागपत्र पर मनाया गया

पाकिस्तान की मांग- 24 मार्च 1940 , मुस्लिम लीग के लाहौर अधिवेशन में

अगस्त प्रस्ताव- 8 अगस्त 1940 , वायसराय लिनलिथगो

क्रिप्स मिशन का प्रस्ताव- मार्च 1942 , स्टीफन क्रिप्स

भारत छोड़ो प्रस्ताव- 8 अगस्त 1942 , महात्मा गांधी

शिमला सम्मेलन- 25 जून 1945 , सभी राजनीतिक दलों का सम्मेलन

नौसेना का विद्रोह- 19 फरवरी 1946 , मुंबई (आईएनएस तलवार के सैनिकों द्वारा)

प्रधानमंत्री एटली की घोषणा- 15 मार्च 1946 , भारत को स्वतंत्र करने का आश्वासन

कैबिनेट मिशन का आगमन- 24 मार्च 1946 , ब्रिटिश मंत्रिमंडल के 3 सदस्यों- पैथिक लॉरेंस, सर स्टीफोर्ड क्रिप्स एवं ए.बी. एलेक्जेंडर का भारत आगमन, कैबिनेट मिशन योजना का प्रकाशन 16 मई 1946 को हुआ

प्रत्यक्ष कार्यवाही दिवस- 16 अगस्त 1946 , मुस्लिम लीग द्वारा

अंतरिम सरकार की स्थापना- 2 सितंबर 1946 , नेहरू प्रधानमंत्री बने

माउंटबेटन योजना- 3 जून 1947 , वायसराय माउंटबेटन ने भारत विभाजन की योजना रखी

स्वतंत्रता की प्राप्ति- 15 अगस्त 1947 , भारत स्वतंत्रता अधिनियम द्वारा

भारतीय गणतंत्र की स्थापना- 26 जनवरी 1950 , डॉ राजेंद्र प्रसाद प्रथम राष्ट्रपति बने

भूदान आंदोलन- 18 अप्रैल 1951 , इसकी शुरुआत पोचमपल्ली नलगोंडा (तेलंगाना) में विनोबा भावे ने की थी ।रामचंद्र रेड्डी ने सबसे पहले भूमि दान में दी।

Important Links-
इन्हें भी पढ़े ▼

टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां

Thanks for comment