Skip to main content

महत्वपूर्ण आंदोलन एवं घटनाएं

भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन से संबंधित महत्वपूर्ण आंदोलन एवं घटनाएं


भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना-  1885 , ए.ओ. ह्यूम (मुंबई)


बंग भंग आंदोलन (स्वदेशी आंदोलन)- 1905 , बंगाल के विभाजन के विरुद्ध


मुस्लिम लीग की स्थापना-  1906 , आगां खान एवं सलीम उल्ला का 


कांग्रेस का विभाजन- 1907 , नरम एवं गरम दल में विभाजित (सूरत फूट)


होमरूल आंदोलन- 1916 , तिलक एवं एनी बेसेंट


लखनऊ पैक्ट- दिसंबर 1916 , कांग्रेस तथा मुस्लिम लीग के बीच समझौता


मांटेग्यू घोषणा- 20 अगस्त 1917 , भारत मंत्री लॉर्ड मांटेग्यू की घोषणा


रौलट एक्ट- 19 मार्च 1919 , काला कानून, जिसके अंतर्गत किसी भी व्यक्ति को संदेह के आधार पर गिरफ्तार किया जा सकता था


जलियांवाला बाग हत्याकांड- 13 अप्रैल 1919 , जनरल डायर (अमृतसर)


खिलाफत आंदोलन- 1919 , शौकत अली एवं मोहम्मद अली


हंटर कमेटी की रिपोर्ट प्रकाशित- 28 मई 1920 , जलियांवाला बाग से संबंधित


कांग्रेस का नागपुर अधिवेशन- दिसंबर 1920 , असहयोग आंदोलन का प्रस्ताव पारित


चौरी चौरा कांड- 5 फरवरी 1922 , गोरखपुर जिले की इस घटना के बाद असहयोग आंदोलन स्थगित


स्वराज पार्टी की स्थापना- 1 जनवरी 1923 , मोतीलाल नेहरू एवं चितरंजन दास


हिंदुस्तान रिपब्लिक एसोसिएशन- अक्टूबर 1924 , शचीन्र्द सान्याल


साइमन कमीशन की नियुक्ति- 8 नवंबर 1927, जॉन साइमन की अध्यक्षता में 7 सदस्य आयोग का गठन


साइमन कमीशन का भारत आगमन- 3 फरवरी 1928 , भारत में लाला लाजपत राय के नेतृत्व में विरोध एवं उन पर लाठी प्रहार


नेहरू रिपोर्ट- अगस्त 1928 , पंडित मोतीलाल नेहरु अध्यक्ष


वारदोली सत्याग्रह- अक्टूबर 1928 , गुजरात के किसानों का लगान वृद्धि के विरोध में सरदार वल्लभभाई के नेतृत्व में आंदोलन


लाहौर षड्यंत्र केस- 8 अप्रैल 1929 , भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त द्वारा ब्रिटिश असेंबली में बम फेंकना


कांग्रेस का लाहौर अधिवेशन- दिसंबर 1929 , पूर्ण स्वाधीनता का प्रस्ताव


स्वाधीनता दिवस की घोषणा- 2 जनवरी 1930 , 26 जनवरी को स्वाधीनता दिवस के रूप में मनाने की घोषणा


नमक सत्याग्रह- 12 मार्च 1930 से 5 अप्रैल 1930 तक, महात्मा गांधी के द्वारा साबरमती आश्रम से डांडी जाकर नमक बनाकर 'नमक कानून' का उल्लंघन करना


सविनय अवज्ञा आंदोलन- 6 अप्रैल 1930 , सविनय अवज्ञा आंदोलन की शुरुआत


प्रथम गोलमेज सम्मेलन- 12 नवंबर 1930 , प्रधानमंत्री मैकडोनाल्ड की अध्यक्षता में लंदन में आयोजित


गांधी इरविन समझौता- 4 मार्च 1931 , महात्मा गांधी और वायसराय इरविन के मध्य सम्पन्न तथा सविनय अवज्ञा आंदोलन स्थगित करने की घोषणा


द्वितीय गोलमेज सम्मेलन- 7 सितंबर 1931 , गांधीजी ने सम्मेलन में भाग लिया


कम्युनल अवार्ड (सांप्रदायिक पंचाट)- 16 अगस्त 1932 , मैकडोनाल्ड द्वारा पृथक प्रतिनिधित्व प्रदान करना


पूना पैक्ट (येरवादा सेंट्रल जेल)- 24 सितंबर 1932 , गांधी जी और डॉक्टर अंबेडकर के बीच एक समझौता, जिसके सांप्रदायिक पंचाट में दलितों के लिए प्रांतीय विधानसभा में पृथक निर्वाचन प्रणाली को समाप्त कर उनके लिए 71 के बदले 148 स्थान सुरक्षित रखे गए 


तृतीय गोलमेज सम्मेलन- 17 नवंबर 1932 , इसमें कांग्रेस ने भाग नहीं लिया


कांग्रेस सोशलिस्ट पार्टी का गठन- मई 1934 , जयप्रकाश नारायण, मीनू मसानी और एस.एम. जोशी


फॉरवर्ड ब्लॉक का गठन- 1 मई 1939 , सुभाष चंद्र बोस


मुक्ति दिवस- 22 दिसंबर 1939 , मुस्लिम लीग के द्वारा कांग्रेस मंत्रीमंडलो के त्यागपत्र पर मनाया गया


पाकिस्तान की मांग- 24 मार्च 1940 , मुस्लिम लीग के लाहौर अधिवेशन में


अगस्त प्रस्ताव- 8 अगस्त 1940 , वायसराय लिनलिथगो


क्रिप्स मिशन का प्रस्ताव- मार्च 1942 , स्टीफन क्रिप्स


भारत छोड़ो प्रस्ताव- 8 अगस्त 1942 , महात्मा गांधी


शिमला सम्मेलन- 25 जून 1945 , सभी राजनीतिक दलों का सम्मेलन


नौसेना का विद्रोह- 19 फरवरी 1946 , मुंबई (आईएनएस तलवार के सैनिकों द्वारा)


प्रधानमंत्री एटली की घोषणा- 15 मार्च 1946 , भारत को स्वतंत्र करने का आश्वासन


कैबिनेट मिशन का आगमन- 24 मार्च 1946 , ब्रिटिश मंत्रिमंडल के 3 सदस्यों- पैथिक लॉरेंस, सर स्टीफोर्ड क्रिप्स एवं ए.बी. एलेक्जेंडर का भारत आगमन, कैबिनेट मिशन योजना का प्रकाशन 16 मई 1946 को हुआ


प्रत्यक्ष कार्यवाही दिवस- 16 अगस्त 1946 , मुस्लिम लीग द्वारा


अंतरिम सरकार की स्थापना- 2 सितंबर 1946 , नेहरू प्रधानमंत्री बने


माउंटबेटन योजना- 3 जून 1947 , वायसराय माउंटबेटन ने भारत विभाजन की योजना रखी


स्वतंत्रता की प्राप्ति- 15 अगस्त 1947 , भारत स्वतंत्रता अधिनियम द्वारा


भारतीय गणतंत्र की स्थापना- 26 जनवरी 1950 , डॉ राजेंद्र प्रसाद प्रथम राष्ट्रपति बने


भूदान आंदोलन- 18 अप्रैल 1951 , इसकी शुरुआत पोचमपल्ली नलगोंडा (तेलंगाना) में विनोबा भावे ने की थी ।रामचंद्र रेड्डी ने सबसे पहले भूमि दान में दी।







Comments

Post a comment

Thanks for comment

Popular posts from this blog

गवर्नर जनरल | वायसराय | कंपनी के अधीन गवर्नर जनरल तथा वायसराय

भारत में हुए गवर्नर जनरल तथा वायसराय

सभी गवर्नर जनरल / वायसराय की सूची तथा उनके समय में हुए महत्वपूर्ण कार्य 

रॉबर्ट क्लाइव 1757-60 एवं 1757-67
बंगाल में द्वैध शासन की व्यवस्था की - रॉबर्ट क्लाइव ने 
किसने मुगल सम्राट् शाह आलम द्वितीय को इलाहाबाद की द्वितीय संधि ( 1765 ई . ) के द्वारा कम्पनी के संरक्षण में ले लिया - रॉबर्ट क्लाइव ने 
बंगाल के गवर्नर को अंग्रेजी क्षेत्रों का गवर्नर - जनरल कहा जाने लगा - 1773 के रेग्यूलेटिंग एक्ट तहत

वारेन हेस्टिग्स 1774-85
भारत में कम्पनी के अधीन प्रथम गवर्नर - जनरल हुआ - वारेन हेस्टिंग्स 
किसने राजकीय कोषागार को मुर्शिदाबाद से हटाकर कलकत्ता लाया - वारेन हेस्टिग्स ने 
1781 में कलकत्ता में मुस्लिम शिक्षा के विकास के लिए प्रथम मदरसा स्थापित किया - वारेन हेस्टिग्स ने 
1782 में जोनाथन डंकन ने बनारस में संस्कृत विद्यालय की स्थापना की - वारेन हेस्टिग्स के समय 
गीता के अंग्रेजी अनुवादकार विलियम विलकिंस को आश्रय दिया था - वारेन हेस्टिग्स ने 
सर विलियम जोंस ने 1784 में द एशियाटिक सोसायटी ऑफ बंगाल की स्थापना की - वारेन हेस्टिग्स के समय 
मुगल सम्राट को मिलने वाला 26 रूपये की…

जैन धर्म | महावीर स्वामी

जैन धर्म 
जैन धर्म से जुड़ी महत्पूर्ण जानकारी जैन धर्म से परीक्षा में पूछे जाने वाले महत्पूर्ण तथ्य 
जैन तीर्थकर के नाम एवं प्रतीक चिन्ह  जैन तीर्थकर   ⟺  प्रतीक चिन्ह
प्रथम तीर्थकर     ➤ ऋषभदेव    ➤ साँड द्वितीय तीर्थकर   ➤ अजितनाथ  ➤ हाथी  तृतीय तीर्थकर     ➤ घोड़ा          ➤ संभव सप्तम तीर्थकर    ➤ संपार्श्व        ➤ स्वास्तिक  सोलहवाँ तीर्थकर ➤ शांति          ➤ हिरण इक्कीसवें तीर्थकर➤ नामि           ➤ नीलकमल  बाइसवें तीर्थकर   ➤ अरिष्टनेमि   ➤ शंख तेइसवें तीर्थकर    ➤ सर्प             ➤ पार्श्व चौबीसवें तीर्थकर  ➤ महावीर       ➤सिंह 

बौद्ध धर्म | गौतम बुद्ध | बौद्ध धर्म से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी

बौद्ध धर्म
बौद्ध धर्म से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी ➧

बौद्ध धर्म बौद्ध धर्म के संस्थापक गौतम बुद्ध थे । गौतम बुद्ध को एशिया का ज्योति पुज्ज ( Light of Asia ) कहा जाता है ।
गौतम बुद्ध का जन्म हुआ - 563 ई. पू. में कपिलवस्तु के लुम्बिनी नामक स्थान पर 
गौतम बुद्ध की मृत्यु हुई - 483 ई. पू. में कुशीनारा,  देवरिया , उत्तर प्रदेश  में ( 80 वर्ष की अवस्था में ) गौतम बुद्ध की मृत्यु चुन्द द्वारा अर्पित भोजन करने के बाद हो गयी 
गौतम बुद्ध की मृत्यु को  बौद्ध धर्म में महापरिनिर्वाण कहा गया है ।

बुद्ध के जीवन से संबंधित बौद्ध धर्म के प्रतीक
गौतम बुद्ध के जन्म का प्रतीक ➣ कमल एवं सांड  गृहत्याग का प्रतीक ➣ घोड़ा ज्ञान का प्रतीक ➣ पीपल ( बोधि वृक्ष )  निर्वाण का प्रतीक ➣ पद चिह्न मृत्यु का प्रतीक ➣ स्तूप
गौतम बुद्ध के बचपन का नाम था ➣ सिद्धार्थ  
गौतम बुद्ध  पिता नाम था ➣ शुद्धोधन ( शाक्य गण के मुखिया थे )
गौतम बुद्ध की माता का नाम था ➣ मायादेवी ➤मायादेवी की मृत्यु गौतम बुद्ध के जन्म के सातवें दिन ही हो गई थी । ➤गौतम बुद्ध का लालन पालन गौतम बुद्ध की सौतेली माँ प्रजापति गौतमी ने किया था ।
गौतम बुद्ध की पत्नी का नाम था ➣ …