Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

Responsive Advertisement

जैन धर्म | महावीर स्वामी

जैन धर्म 

जैन धर्म से जुड़ी महत्पूर्ण जानकारी जैन धर्म से परीक्षा में पूछे जाने वाले महत्पूर्ण तथ्य:- 
यह पोस्ट जैन धर्म को लेकर हैं जैन धर्म से जो प्रश्न परीक्षा में पूछे जा सकते हैं उनके बारे में बहुत ही सरल और आसान तरीके से सब जानेगे और जैन धर्म से जो भी तथ्य बनते हैं उनके बारे में भी जानेंगे पोस्ट को पूरा पड़े आशा करते है की जैन धर्म से जुड़े जो भी प्रश्न बनते हैं उनके बारें में आपको पूरी जानकारी समझ आएगी 
जैन साहित्य को आगम कहा जाता हैं इसमें 12 अंग, १२ उपांग, 10 प्रकीर्ण, 6 छेद अंग और ४ मूल अंग हैं 

जैन तीर्थकर के नाम एवं प्रतीक चिन्ह- 
जैन तीर्थकर ⟺ नाम  प्रतीक चिन्ह
प्रथम तीर्थकर- ऋषभदेव (प्रतीक चिन्ह- साँड)
द्वितीय तीर्थकर- अजितनाथ (प्रतीक चिन्ह- हाथी
तृतीय तीर्थकर- घोड़ा (प्रतीक चिन्ह- संभव)
सप्तम तीर्थकर- संपार्श्व (प्रतीक चिन्ह- स्वास्तिक
सोलहवाँ तीर्थकर- शांति (प्रतीक चिन्ह- हिरण)
इक्कीसवें तीर्थकर- नामि (प्रतीक चिन्ह- नीलकमल
बाइसवें तीर्थकर- अरिष्टनेमि (प्रतीक चिन्ह- शंख)
तेइसवें तीर्थकर- सर्प (प्रतीक चिन्ह- पार्श्व)
चौबीसवें तीर्थकर- महावीर (प्रतीक चिन्ह- सिंह)   

जैनधर्म के संस्थापक एवं प्रथम तीर्थंकर थे - ऋषभदेव 
जैनधर्म के 23 वें तीर्थंकर थे - पार्श्वनाथ , ये  काशी के इक्ष्वाकु वशीय राजा अश्वसेन के पुत्र थे 
इन्होंने 30 वर्ष की अवस्था में संन्यास जीवन को स्वीकारा ।
इनके द्वारा दी गयी शिक्षा थी - 1. हिंसा न करना , 2. सदा सत्य बोलना , 3. चोरी न करना तथा 4.सम्पत्ति न रखना ।

महावीर स्वामी
➤महावीर स्वामी जैन धर्म के 24 वें एवं अंतिम तीर्थंकर थे । 
➤महावीर का जन्म हुआ था - 540 ईसा पूर्व, कुण्डग्राम (वैशाली, बिहार) में ।
➤महावीर की मृत्यु हुई ( निर्वाण ) - 468 ईसा पूर्व, पावापुरी( राजगीर, बिहार) में ।
➤महावीर स्वामी के पिता थे - सिद्धार्थ (ये ज्ञातक कुल ' केसरदार थे)
➤महावीर स्वामी माता - त्रिशला (ये लिच्छवि राजा चेटक की बहन थी ) 
➤महावीर की पत्नी का नाम था - यशोदा  
➤महावीर की पुत्री का नाम था - अनोज्जा प्रियदर्शनी
➤महावीर के बचपन का नाम था - वर्द्धमान 

महावीर स्वामी ने 30 वर्ष की उम्र में माता - पिता की मृत्यु के पश्चात् अपने बड़े भाई नदिवर्धन से अनुमति लेकर संन्यास - जीवन को स्वीकारा था ।
12 वर्षों की कठिन तपस्या के बाद महावीर को जृम्भिक के समीप ऋजुपालिका नदी के तट पर साल वृक्ष के नीचे तपस्या करते हुए सम्पूर्ण ज्ञान का बोध हुआ ।
इसी समय ( ज्ञान प्राप्ति के बाद )से महावीर जिन ( विजेता ) , अर्हत ( पूज्य ) और निर्ग्रन्थ ( बंधनहीन ) कहलाए 

➤महावीर ने अपना उपदेश जिस भाषा में दिया था - प्राकृत (अर्धमागधि) भाषा में ।
➤महावीर के अनुयायियों को मूलतः कहा जाता था - निग्रंथ।
➤महावीर के प्रथम अनुयायी थे - उनके दामाद जामिल। (प्रियदर्शनी के पति)  
➤प्रथम जैन भिक्षुणी थी - नरेश दधिवाहन की पुत्री चम्पा  
➤महावीर ने अपने शिष्यों को कितने गणधरों में विभाजित किया था - 11 गणधरों में 
➤अकेला ऐसा गन्धर्व था जो महावीर की मृत्यु के बाद भी जीवित रहा - आर्य सुधर्मा 
➤जैनधर्म का प्रथम थेरा या मुख्य उपदेशक हुआ - आर्य सुर्धमा
➤दो जैन तीर्थकर जिनका उल्लेख ऋग्वेद में मिलता है - ऋषभदेव एवं अरिष्टनेमि 

लगभग 300 ईसा पूर्व में मगध में 12 वर्षों का भीषण अकाल पड़ा , जिसके कारण भद्रबाहु अपने शिष्यों सहित कर्नाटक चले गए । किंतु कुछ अनुयायी स्थूलभद्र के साथ मगध में ही रुक गए । भद्रबाहु के वापस लौटने पर मगध के साधुओं से उनका गहरा मतभेद हो गया जिसके परिणामस्वरूप जैन मत श्वेताम्बर एवं दिगम्बर नामक दो सम्प्रदायों में बँट गया ।
स्थूलभद्र के शिष्य कहलाए - श्वेताम्बर ( श्वेत वस्त्र धारण करने वाले ) 
भद्रबाहु के शिष्य कहलाए - दिगम्बर ( नग्न रहने वाले ) 

जैन धर्म में दो संगीतियाँ हुई - 
प्रथम जैन संगीति - 300 ई. पू. , पाटलिपुत्र में 
दूसरी जैन संगीति - छठीं शताब्दी ई. पू. , बल्लभी गुजरात में 

प्रथम जैन संगीति में अध्यक्ष थे -  स्थूलभद्र
दूसरी जैन संगीति में अध्यक्ष थे - क्षमाश्रवण

जैनधर्म के  त्रिरत्न -1 . सम्यक् दर्शन , 2. सम्यक् ज्ञान और 3. सम्यक आचरण । 
त्रिरत्न के अनुशीलन में निम्न पाँच महाव्रतों का पालन अनिवार्य है — अहिंसा , सत्य वचन , अस्तेय , अपरिग्रह एवं ब्रह्मचर्य ।

जैन धर्म से जुड़े मुख्य तथ्य- 
➤जैनधर्म में ईश्वर की मान्यता नहीं है 
➤जैनधर्म में आत्मा की मान्यता है ।
➤महावीर पुनर्जन्म एवं कर्मवाद में विश्वास करते थे ।
➤जैनधर्म के सप्तभंगी ज्ञान के अन्य नाम स्यादवाद और अनेकांतवाद हैं । 
➤जैनधर्म ने अपने आध्यात्मिक विचारों को सांख्य दर्शन से ग्रहण किया । 
➤जैनधर्म मानने वाले कुछ राजा थे — उदयिन , वंदराजा , चन्द्रगुप्त मौर्य , कलिंग नरेश खारवेल , राष्ट्रकूट राजा अमोघवर्ष , चंदेल शासक । 
➤खजुराहो में जैन मंदिरों का निर्माण चंदेल शासकों द्वारा किया गया । 
➤मौर्योत्तर युग में मथुरा जैन धर्म का प्रसिद्ध केन्द्र था ।
➤मथुरा कला का संबंध जैनधर्म से है ।
➤जैन तीर्थंकरों की जीवनी भद्रबाहु द्वारा रचित कल्पसत्र में है ।
➤किसके राजप्रसाद में महावीर स्वामी को निर्वाण प्राप्त हुआ था - मल्लराजा सृस्तिपाल के

Read More Posts

Important Links▼

Post a comment

8 Comments

Thanks for comment