Skip to main content

गवर्नर जनरल | वायसराय | कंपनी के अधीन गवर्नर जनरल तथा वायसराय

भारत में हुए गवर्नर जनरल तथा वायसराय 


सभी गवर्नर जनरल / वायसराय की सूची तथा उनके समय में हुए महत्वपूर्ण कार्य 
 


रॉबर्ट क्लाइव 1757-60 एवं 1757-67 

बंगाल में द्वैध शासन की व्यवस्था की - रॉबर्ट क्लाइव ने 

किसने मुगल सम्राट् शाह आलम द्वितीय को इलाहाबाद की द्वितीय संधि ( 1765 ई . ) के द्वारा कम्पनी के संरक्षण में ले लिया - रॉबर्ट क्लाइव ने 

बंगाल के गवर्नर को अंग्रेजी क्षेत्रों का गवर्नर - जनरल कहा जाने लगा - 1773 के रेग्यूलेटिंग एक्ट तहत 


वारेन हेस्टिग्स 1774-85 

भारत में कम्पनी के अधीन प्रथम गवर्नर - जनरल हुआ - वारेन हेस्टिंग्स 

किसने राजकीय कोषागार को मुर्शिदाबाद से हटाकर कलकत्ता लाया - वारेन हेस्टिग्स ने 

1781 में कलकत्ता में मुस्लिम शिक्षा के विकास के लिए प्रथम मदरसा स्थापित किया - वारेन हेस्टिग्स ने 

1782 में जोनाथन डंकन ने बनारस में संस्कृत विद्यालय की स्थापना की - वारेन हेस्टिग्स के समय 

गीता के अंग्रेजी अनुवादकार विलियम विलकिंस को आश्रय दिया था - वारेन हेस्टिग्स ने 

सर विलियम जोंस ने 1784 में द एशियाटिक सोसायटी ऑफ बंगाल की स्थापना की - वारेन हेस्टिग्स के समय 

मुगल सम्राट को मिलने वाला 26 रूपये की वार्षिक पेंशन बंद करवा दी थी - वारेन हेस्टिग्स ने 

1780 में भारत का पहला समाचार पत्र 'द बंगाल गजट' का प्रकाशन जेम्स ऑगस्टस हिक्की ने किया - वारेन हेस्टिग्स के समय  

रेग्यूलेटिंग एक्ट के तहत 1774 में कलकत्ता में एक उच्च न्यायलय की स्थापना की गयी - वारेन हेस्टिग्स के समय 

किसने बंगाली ब्राह्मण नन्द कुमार पर झूठा आरोप लगाकर न्यायलय से फाँसी की सजा दिलवा दी थी - वारेन हेस्टिग्स ने 

प्रथम आंग्ल मराठा युद्ध (1775-82)  तथा द्वितीय आंग्ल मराठा युद्ध (1780-84) हुआ - वारेन हेस्टिग्स के समय  

'बोर्ड ऑफ रेवेन्यू' की स्थापना हुई - वारेन हेस्टिग्स के समय 


लॉर्ड कॉर्नवालिस 1786-1793 और 1805 ई.

किसके समय में जिले के समस्त अधिकार कलेक्टर के हाथों में दे दिए गए - लॉर्ड कॉर्नवालिस के समय 

भारतीय न्यायाधीशों से युक्त जिला फौजदारी अदालतों को समाप्त कर उसके स्थान पर चार भ्रमण करने वाली अदालतें , जिनमें तीन बंगाल के लिए और एक बिहार के लिए थी , नियुक्त की - लॉर्ड कॉर्नवालिस ने 

कॉर्नवालिस ने प्रसिद्ध कॉर्नवालिस कोड का निर्माण करवाया - 1793 ई. में 

1793 ई. में स्थायी बन्दोबस्त की पद्धति लागू की - लॉर्ड कॉर्नवालिस ने 

स्थायी बंदोबस्त की योजना बनाई थी - जॉन शोर ने 

किसे भारत में नागरिक सेवा का जनक माना जाता है - लॉर्ड कॉर्नवालिस को 


सर जॉन शोर 1793-98 ई.

किसने अहस्तक्षेप नीति अपनाई - सर जॉन शोर ने 


लार्ड वेलेजली 1798-1805 ई. 

किसने सहायक संधि की पद्धति शुरू की - लार्ड वेलेजली ने 

भारत में सहायक संधि का प्रयोग वेलेजली से पूर्व किसने किया था - फ्रांसीसी गवर्नर डूप्ले ने 

सहायक संधि करनेवाले राज्य थे - हैदराबाद - 1798 ई.  
मैसूर - 1799 ई. 
तंजौर - अक्टूबर , 1799 ई. 
अवध - 1801 ई. 
पेशवा - दिसम्बर , 1801 ई. 
बरार एवं भोंसले - दिसम्बर , 1803 ई. 
सिंधिया - 1804 ई.
अन्य सहायक संधि करनेवाले राज्य जोधपुर - जयपुर , मच्छेड़ी , बूंदी तथा भरतपुर ।

टीपू सुल्तान चौथे आंग्ल - मैसूर युद्ध ( 1799 ई. ) में मारा गया - लार्ड वेलेजली के समय 

1800 ई. में कलकत्ता में फोर्ट विलियम कॉलेज की स्थापना - लार्ड वेलेजली ने 

कौन स्वयं को बंगाल का शेर कहा करता था - लार्ड वेलेजली 


सर जॉर्ज वार्लो 1805-1807 ई.

1806 में सिपाही विद्रोह हुआ - सर जॉर्ज वार्लो के समय 



लार्ड मिन्टो प्रथम 1807-1813 ई. 

अमृतसर की संधि हुई - 25 अप्रैल 1809 ई. को , लार्ड मिन्टो प्रथम के समय 

किसके समय चार्टर एक्ट 1813 ई. पास हुआ - लार्ड मिन्टो प्रथम के समय 


लॉर्ड हेस्टिंग्स 1813-1823 ई. 

आंग्ल - नेपाल युद्ध 1814-16 ई. में हुआ - लॉर्ड हेस्टिंग्स के समय

अंग्रेजों एवं गोरखों के बीच संगोली की संधि हुई - मार्च , 1816 ई. में , लॉर्ड हेस्टिंग्स के समय

किसके समय में पिंडारियों का दमन कर दिया गया - लॉर्ड हेस्टिंग्स के समय

मराठों की शक्ति को अंतिम रूप से नष्ट कर दिया - लॉर्ड हेस्टिंग्स ने  

1822 ई. का टैनेन्सी एक्ट या काश्तकारी अधिनियम लागू किया गया - लॉर्ड हेस्टिंग्स के समय


लॉर्ड एमहर्ट 1823-1828 ई.

प्रथम आंग्ल - बर्मा युद्ध 1824-1826 ई. लड़ा गया - लॉर्ड एमहर्ट के समय  

1826 ई. में बर्मा एवं अंग्रेजों के बीच यान्डबू की संधि हुई - लॉर्ड एमहर्ट के समय

1824 ई. में बैरकपुर का सैन्य विद्रोह हुआ - लॉर्ड एमहर्ट के समय 


लॉर्ड विलियम बैंटिक  1828-1835 ई. 

1806 ई. में माथे पर जातीय चिह्न न लगाने तथा कानों में बालियाँ न पहनने देने पर वेल्लोर के सैनिकों ने विद्रोह किया - लॉर्ड विलियम बैंटिक के समय ( 1803 में यह मद्रास का गवर्नर था )    

बंगाल के गवर्नर - जनरल को भारत का गवर्नर जनरल बना दिया गया - 1833 ई . के ' चार्टर एक्ट ' द्वारा

भारत का पहला गवर्नर जनरल था - लॉर्ड विलियम बैंटिक 

1829 में सती प्रथा को समाप्त किया - लॉर्ड विलियम बैंटिक ने, राजा राम मोहन राय के सहयोग से 

1829 में धारा 17 के द्वारा विधवाओं के सती होने को समाप्त किया - लॉर्ड विलियम बैंटिक ने 

1830 में ठगी प्रथा को समाप्त किया - लॉर्ड विलियम बैंटिक ने , कर्नल सलीमन की सहायता से 

1835 में कलकत्ता में कलकत्ता मेडिकल कॉलेज की स्थापना की - लॉर्ड विलियम बैंटिक ने 

मैकाले की अनुशंसा पर अंग्रेजी को शिक्षा का माध्यम बनाया गया - लॉर्ड विलियम बैंटिक के समय 

बैंटिंग ने मैसूर को हड़प लिया - 1831 में 

बैंटिंग ने कुर्ग एवं मध्यकचेर को हड़प लिया - 1834 में 

किसने शिशु बालिका की हत्या पर प्रतिबंध लगाया - लॉर्ड विलियम बैंटिक ने  


चार्ल्स मेटकॉफ 1835-36 ई.

किसे भारतीय प्रेस का मुक्तिदाता कहा जाता है - चार्ल्स मेटकॉफ को 




लॉर्ड ऑकलैंड 1836-42 ई.

प्रथम आंग्ल अफगान 1839-42 युद्ध हुआ - लॉर्ड ऑकलैंड  समय 

1839 में कलकत्ता से दिल्ली तक ग्रैंड ट्रक रोड की मरम्मत करवाई - लॉर्ड ऑकलैंड ने

भारतीय विद्यार्थियों को डॉक्टरी की शिक्षा हेतु विदेश जाने की अनुमति ब्रिटिश संसद ने प्रदान की - लॉर्ड ऑकलैंड के समय  


लॉर्ड एलिनबरो 1842-44 ई. 

सिंध को अगस्त 1843 में पूर्ण रूप से ब्रिटिश साम्राज्य में मिला लिया गया - लॉर्ड एलिनबरो के समय 

दास प्रथा का उन्मूलन हुआ - लॉर्ड एलिनबरो के समय 


लॉर्ड हार्डिंग 1844-48 ई. 

प्रथम आंग्ल सिक्ख युद्ध 1845-46 हुआ - लॉर्ड हार्डिंग के समय 

नरबलि प्रथा पर प्रतिबन्ध लगाया - लॉर्ड हार्डिंग ने 


लॉर्ड डलहौजी 1848-56 ई.

द्वितीय आंग्ल सिख युद्ध 1848-49 हुआ - लॉर्ड डलहौजी के समय

1849 में पंजाब का ब्रिटिश शासन में विलय हुआ - लॉर्ड डलहौजी के समय

सिक्ख राज्य का प्रसिद्ध हीरा कोहिनूर महारानी विक्टोरिया को भेज दिया गया - लॉर्ड डलहौजी के समय

द्वितीय आंग्ल बर्मा युद्ध हुआ - लॉर्ड डलहौजी के समय

1852 में लोअर बर्मा एवं पीगू को अंग्रेजी साम्राज्य में मिलाया गया - लॉर्ड डलहौजी के समय

सिक्किम पर दो अंग्रेज डॉक्टरों के साथ दुर्व्यवहार का आरोप लगाकर 1850 में उस पर अधिकार कर लिया - लॉर्ड डलहौजी ने

1852 में इनाम कमीशन की स्थापना की गई - लॉर्ड डलहौजी के समय

किसका शासनकाल व्यपगत सिद्धांत के लिए याद किया जाता है - डलहौजी का

व्यपगत सिद्धांत के द्वारा अंग्रेजी साम्राज्य में मिलाए गए राज्य
सतारा - 1848
बघाट - 1850
उदेपुर - 1852
झांसी - 1853
नागपुर - 1854

1856 ई. में अवध को कुशासन का आरोप लगाकर अंग्रेजी राज्य में मिलाया - डलहौजी ने (अवध का नवाब वाजिद अली था)

1856 ई. में तोपखाने के मुख्यालय को कलकत्ता से मेरठ स्थानान्तरित किया - लॉर्ड डलहौजी ने

शिक्षा संबंधी सुधारों में 1854 ई. मे वुड डिस्पैच को लागू किया - लॉर्ड डलहौजी ने

डलहौजी ने सेना का मुख्यालय स्थापित किया - शिमला में

भारत में रेलवे का जनक माना जाता है - डलहौजी को

भारत में पहली बार रेल चली - 16 अप्रैल 1853 ई. में बम्बई थाणे के बीच , डलहौजी के समय

नया पोस्ट ऑफिस एक्ट पारित हुआ - 1854 ई. में , डलहौजी के समय

भारत में पहली बार डाक टिकट का प्रचलन प्रारंभ हुआ - डलहौजी के समय

पृथक रूप से भारत में पहली बार सार्वजनिक निर्माण विभाग की स्थापना की - डलहौजी ने

1854 ई. में एक स्वतंत्र विभाग के रूप में लोक सेवा विभाग की स्थापना की - लॉर्ड डलहौजी ने

1853 ई. में कलकत्ता एवं आगरा के बीच पहली बार बिजली से संचालित तार सेवा शुरू हुई - डलहौजी के समय

डलहौजी ने ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाया - शिमला को

1853 ई. से अधिकारियों की नियुक्ति के लिए प्रतियोगिता परीक्षा की व्यवस्था की गयी जिसके लिए उम्र सीमा 18 से 23 वर्ष रखी गयी - लॉर्ड डलहौजी के समय

पहले भारतीय जिन्होंने 1863 ई. में लंदन में हुई सिविल सेवा परीक्षा में सफलता प्राप्त की - सत्येन्द्रनाथ टैगोर

डलहौजी ने नरबलि प्रथा को रोकने का भी प्रयास किया।


लॉर्ड कैनिंग 1856-1862 ई.

1857 ई. का ऐतिहासिक विद्रोह हुआ - लॉर्ड कैनिंग के समय

कम्पनी द्वारा नियुक्त अन्तिम गवर्नर - जनरल तथा ब्रिटिश सम्राट के अधीन नियुक्त प्रथम वायसराय था - लॉर्ड कैनिंग

भारत का शासन कम्पनी के हाथों से सीधे ब्रिटिश सरकार के नियंत्रण में ले लिया गया - 1857 के विद्रोह के बाद

इंडियन हाइकोर्ट एक्ट पारित हुआ - कैनिंग के समय

विधवा पुनर्विवाह अधिनियम स्वतंत्र रूप से लागू हुआ - 1856 ई. में कैनिंग के समय में 

महालेखा परीक्षक पद का सृजन किया गया - 1857 ई. में कैनिंग के समय ही

मुगल सम्राट के पद को समाप्त कर दिया गया - भारत शासन अधिनियम -1858 ई. के तहत , कैनिंग के समय में 

मैकाले द्वारा प्रारूपिक दंड संहिता को कानून बना दिया गया - 1858 में , कैनिंग के समय

अपराध विधान संहिता लागू की गई - 1859 में , कैनिंग के बारे

व्यपगत सिद्धांत ( Doctrine of Lapase ) यानी राज्य - विलय की नीति को समाप्त कर दिया - कैनिंग ने

इंडियन कौंसिल एक्ट पारित हुआ - 1861 में , कैनिंग के समय

पोर्टफोलियो प्रणाली लागू की गयी - कैनिंग के समय


लॉर्ड एल्गिन 1862-1863 ई.

किसने वहाबी आन्दोलन का दमन किया - लॉर्ड एल्गिन ने

1863 में किसकी मृत्यु धर्मशाला ( हिमाचल प्रदेश ) में हुई - लॉर्ड एल्गिन की

लॉर्ड लारेंस 1864-1869 ई. 

1865 में भूटान ने ब्रिटिश साम्राज्य पर आक्रमण किया - लॉर्ड लारेंस के समय

अफगानिस्तान के संबंध में अहस्तक्षेप की नीति अपनाई - लॉर्ड लारेंस ने 

किसके समय में उड़ीसा में 1866 में भीषण अकाल पड़ा - लॉर्ड लारेंस के समय

बुन्देलखण्ड एवं राजपुताना में 1868-1869 ई . में भीषण अकाल पड़ा - लॉर्ड लारेंस के समय

हेनरी कैम्पवेल के नेतृत्व में एक अकाल आयोग का गठन किया - लॉर्ड लारेंस ने

भारत एवं यूरोप के बीच प्रथम समद्री , टेलीग्राफ सेवा शुरू की गयी - 1865 में , लॉर्ड लारेंस के द्वारा


लॉर्ड मेयो  1869-1872 ई. 

लॉर्ड मेयो ने अजमेर में मेयो कॉलेज की स्थापना की - 1872 ई. में

सन् 1872 में एक कृषि विभाग की स्थापना की - लॉर्ड मेयो ने

किसकी हत्या 1872 में एक अफगान ने चाकू मार कर  कर दी थी - लॉर्ड मेयो की

प्रथम जनगणना हुई - 1872 में , मेयो के कार्यकाल में


लॉर्ड नार्थब्रुक  1872-1876 ई.

किसके समय में बंगाल में भयानक अकाल पड़ा - लॉर्ड नार्थब्रुक के

किसने बड़ौदा के मल्हारराव गायकवाड़ को भ्रष्टाचार के आरोप में पदच्युत कर मद्रास भेज दिया - लॉर्ड नार्थब्रुक ने

किसने घोषणा की “ मेरा उद्देश्य करों को हटाना तथा अनावश्यक वैधानिक कार्रवाइयों को बन्द करना है " - लॉर्ड नार्थब्रुक ने 

पंजाब का प्रसिद्ध कका आन्दोलन हुआ - लॉर्ड नार्थब्रुक के समय

किसके समय में स्वेज नहर खुल जाने से भारत एवं ब्रिटेन के बीच व्यापार में वृद्धि हुई - लॉर्ड नार्थब्रुक के समय


लॉर्ड लिटन 1876-1880 ई. 

कौन सा वायसराय एक प्रसिद्ध उपन्यासकार , निबंध - लेखक एवं साहित्यकार था - लॉर्ड लिटन

किस वायसराय को साहित्यकाश मे 'ओवन मैरिडिथ' के नाम से जाना जाता था - लॉर्ड लिटन को

रिचर्ड स्टेची की अध्यक्षता में एक अकाल आयोग की स्थापना की - लॉर्ड लिटन ने

दिल्ली दरबार का आयोजन किया गया - 1 जनवरी , 1877 ई. को , ब्रिटेन की महारानी विक्टोरिया को कैसर - ए - हिन्द की उपाधि से सम्मानित करने के लिए 

आर्स एक्ट पारित हुआ - 1878 ई. में ,लिटन के समय 
(भारतीयों द्वारा अपने पास हथियार रखने का अधिकार छीन लिया गया)

भारतीय समाचारपत्र अधिनियम ( वाक्यूलर प्रेस एक्ट ) पारित किया - मार्च , 1878 ई. में लिटन ने 

वर्नाक्यूलर प्रेस एक्ट -1878 का समर्थन किया - पायनियर अखबार ने

भारतीय शस्त्र अधिनियम पारित हुआ - 1878 ई. को , लॉर्ड लिटन के समय

किसने सिविल सेवा परीक्षाओं में प्रवेश की अधिकतम आयु सीमा घटाकर 19 वर्ष कर दी - लॉर्ड लिटन ने

अलीगढ़ में एक मुस्लिम - ऐंग्लो प्राच्य महाविद्यालय की स्थापना की - लॉर्ड लिटन ने


लॉर्ड रिपन  1880-1884 ई.

1882 ई. में वर्नाक्यूलर प्रेस एक्ट को समाप्त किया - लॉर्ड रिपन ने

सिविल सेवा में प्रवेश की आयु को 19 वर्ष से बढ़ाकर 21 वर्ष कर दिया - लॉर्ड रिपन ने

किसने स्थानीय स्वशासन की शुरुआत की - लॉर्ड रिपन ने

1881 ई. में सर्वप्रथम नियमित जनगणना करायी गयी - लॉर्ड रिपन के समय

1881 ई. में प्रथम कारखाना अधिनियम लाया गया - रिपन के द्वारा

शैक्षिक सुधारों के अन्तर्गत विलियम हण्टर की अध्यक्षता में एक आयोग गठित किया गया - रिपन के समय 

यूरोपियों के विरुद्ध भारतीय न्यायाधीशों द्वारा मुकदमे की सुनवाई के लिए इल्बर्ट विधेयक प्रस्तुत किया गया - रिपन के समय में

रिपन को ' भारत के उद्धारक ' की संज्ञा दी - फ्लोरेंस नाइटिंगेल ने


लॉर्ड डफरिन  1884-1888 ई. 

तृतीय आंग्ल - बर्मा युद्ध 1885-88 ई. हुआ - लॉर्ड डफरिन के समय

बर्मा को अन्तिम रूप से अंग्रेजी राज्य में मिला लिया गया - लॉर्ड डफरिन के समय

बंगाल टेनेन्सी एक्ट , अवध टेनेन्सी एक्ट तथा पंजाब टेनेन्सी एक्ट पारित हुआ - लॉर्ड डफरिन के समय

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना हुई -28 दिसम्बर , 1885 ई. को बम्बई में (लॉर्ड डफरिन के समय)


लॉर्ड लैन्सडाऊन  1888-1894 ई.

भारत और अफगानिस्तान के मध्य सीमा - रेखा ( डूरण्ड रेखा ) का निर्धारण हुआ - लॉर्ड लैन्सडाऊन के समय

1891 ई. में दूसरा कारखाना अधिनियम लाया गया - लॉर्ड लैन्सडाऊन के समय


लॉर्ड एल्गिन द्वितीय  1894-1899 ई. 

''भारत को तलवार के बल पर विजित किया गया है और तलवार के बल पर ही इसकी रक्षा की जाएगी " यह कथन है -  लॉर्ड एल्गिन द्वितीय का

1895-98 के मध्य उत्तर प्रदेश , बिहार , पंजाब एवं मध्य प्रदेश में भयंकर अकाल पड़ा - लॉर्ड एल्गिन द्वितीय के समय


लॉर्ड कर्जन  1899-1905 ई.

1901 ई. में सर कॉलिन स्कॉट मॉनक्रीफ की अध्यक्षता में एक सिंचाई आयोग स्थापना की - लॉर्ड कर्जन ने

1902 ई. में सर एण्ड्रयू की अध्यक्षता में एक पुलिस आयोग स्थापना की - लॉर्ड कर्जन ने

सर टामस रैले की अध्यक्षता में विश्वविद्यालय आयोग की स्थापना की - लॉर्ड कर्जन ने

भारतीय विश्वविद्यालय अधिनियम पास किया गया - 1904 ई. में , लॉर्ड कर्जन के समय

सर एण्टनी मैकडॉनल की अध्यक्षता में एक अकाल आयोग का गठन किया - लॉर्ड कर्जन ने

सैन्य अधिकारियों के प्रशिक्षण के लिए क्वेटा में एक कॉलेज की स्थापना की - लॉर्ड कर्जन ने

भारत में पहली बार ऐतिहासिक इमारतों की सुरक्षा एवं मरम्मत की ओर ध्यान दिया - कर्जन ने ,( प्राचीन स्मारक परीक्षण अधिनियम 1904 ई. के द्वारा )

भारतीय पुरातत्व विभाग की स्थापना की - कर्जन ने 

कलकत्ता में विक्टोरिया मेमोरियल हॉल का निर्माण हुआ - कर्जन के समय

बंगाल विभाजन हुआ -1905 ई. में , कर्जन के समय


लॉर्ड मिन्टो द्वितीय  1905-1910 ई. 

आगा खाँ सलीम उल्ला खाँ के द्वारा ढाका में  मुस्लिम लीग की स्थापना की गई - 1906 ई. में , लॉर्ड मिन्टो द्वितीय के समय

1907 ई. के काँग्रेस के सूरत अधिवेशन में काँग्रेस का विभाजन हो हुआ - लॉर्ड मिन्टो द्वितीय के समय

1907 ई. में आंग्ल एवं रूसी प्रतिनिधिमंडलों के बीच बैठक हुई - लॉर्ड मिन्टो द्वितीय के शासनकाल में

मुसलमानों के लिए अलग निर्वाचन व्यवस्था की गई - मार्ले मिन्टो सुधार अधिनियम 1909 ई. के द्वारा 


लॉर्ड हार्डिंग द्वितीय 1910-1916 ई. 

ब्रिटेन के राजा जॉर्ज पंचम भारत आए - लॉर्ड हार्डिंग द्वितीय के समय

12 दिसम्बर , 1911 ई. में दिल्ली में एक भव्य दरबार का आयोजन हुआ - लॉर्ड हार्डिंग द्वितीय के समय

1912 ई. में दिल्ली भारत की राजधानी बनी - लॉर्ड हार्डिंग द्वितीय के समय

 लॉर्ड हार्डिंग पर दिल्ली में बम फेंका गया - 23 दिसम्बर , 1912 ई. को
( इस कांड में भाई बालमुकुन्द को फाँसी की सज़ा दी गई ) 

प्रथम विश्वयुद्ध प्रारंभ हुआ - 28 जुलाई 1914 ई. को , लॉर्ड हार्डिंग द्वितीय के समय

फिरोजशाह मेहता ने 'बाम्बे क्रोनिकल' एवं गणेश शंकर विद्यार्थी ने "प्रताप' का प्रकाशन किया - लॉर्ड हार्डिंग द्वितीय शासनकाल में 

लॉर्ड हार्डिंग को बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय का कुलाधिपति नियुक्त किया गया - 1916 ई. में 


लॉर्ड चेम्सफोर्ड  1916-1921 ई. 

काँग्रेस का एकीकरण हुआ एवं मुस्लिम लीग के साथ समझौता हुआ - लखनऊ अधिवेशन 1916 ई. में , लॉर्ड चेम्सफोर्ड के समय

पूना में महिला विश्वविद्यालय की स्थापना हुई - 1916 ई. में , लॉर्ड चेम्सफोर्ड के समय

शिक्षा पर सैडलर आयोग का गठन किया गया - 1917 ई. में ,  लॉर्ड चेम्सफोर्ड के समय

1919 ई. में रौलेट एक्ट पारित हुआ - लॉर्ड चेम्सफोर्ड के समय

13 अप्रैल, 1919 ई. को जालियाँवाला बाग हत्याकांड हुआ - लॉर्ड चेम्सफोर्ड के समय

खिलाफत आन्दोलन एवं असहयोग आन्दोलन प्रारंभ हुआ - लॉर्ड चेम्सफोर्ड के समय

तृतीय अफगान युद्ध हुआ - लॉर्ड चेम्सफोर्ड के समय


लॉर्ड रीडिंग  1921-1926 ई.

चौरी - चौरा काण्ड की घटना हुई - 5 फरवरी 1922 ई. को , लॉर्ड रीडिंग के समय

स्वराज्य पार्टी की स्थापना की -  1923 ई. में चित्तरंजन दास एवं मोतीलाल नेहरू ने ( इलाहाबाद में ) 

प्रिंस ऑफ वेल्स ने भारत की यात्रा की - नवम्बर 1921 ई. में , लॉर्ड रीडिंग के समय

मोपला विद्रोह हुआ - 1921 ई. में , लॉर्ड रीडिंग के समय

एम . एन . राय द्वारा भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का गठन किया गया - 1921 ई. में , लॉर्ड रीडिंग के समय

भारत में सिविल सेवा परीक्षा की शुरुआत हुई - 1922 इलाहाबाद से , लॉर्ड रीडिंग के समय

प्रसिद्ध आर्यसमाजी राष्ट्रवादी नेता स्वामी श्रद्धानन्द की हत्या कर दी गयी - 1925 ई. में , लॉर्ड रीडिंग के समय


लॉर्ड इरविन  1926-1931 ई. 

साइमन कमीशन बम्बई पहुँचा - 23 फरवरी 1928 ई. को , लॉर्ड इरविन के समय

लाला लाजपत राय की मृत्यु के बदले में भारतीय चरमपंथियों द्वारा दिल्ली के असेम्बली हॉल में बम फेंका गया - 1929 ई . में , लॉर्ड इरविन के समय

लाहौर जेल में जतिनदास ने 13 जुलाई , 1929 ई. को भूख हड़ताल शुरू की - लॉर्ड इरविन के समय

भूख - हड़ताल के 64 वें दिन जतिनदास की मृत्यु हुई - 13 सितम्बर , 1929 ई. को 
 
'पूर्ण स्वराज' का लक्ष्य निर्धारित किया गया -  काँग्रेस के लाहौर अधिवेशन 1929 ई. में , लॉर्ड इरविन के समय

स्वतंत्रता दिवस मनाने की घोषणा की गयी - 26 जनवरी 1930 ई. को , लॉर्ड इरविन के समय

सविनय अवज्ञा आन्दोलन के दौरान महात्मा गाँधी को गिरफ्तार कर लिया गया - 5 मई 1930 ई. को , इरविन के समय

महात्मा गाँधी को वायसराय इरविन ने बिना कोई शर्त के रिहा कर दिया - 25 जनवरी 1931 ई. को

प्रथम गोलमेज सम्मेलन हुआ - 12 नवम्बर 1930 ई. को लंदन में , इरविन के समय

गाँधी इरविन समझौते पर हस्ताक्षर किये गये - 4 मार्च 1931 ई. को 
 
'सविनय अवज्ञा आन्दोलन' को स्थगित किया - 4 मार्च 1931 ई. को 


लॉर्ड वेलिंगटन  1931-1936 ई. 

द्वितीय गोलमेज सम्मेलन का आयोजन हुआ - 7 सितम्बर से 1 दिसम्बर 1931 ई. तक , लॉर्ड वेलिंगटन के समय

काँग्रेस ने  किस गोलमेज सम्मेलन में भाग लिया - दूसरे सम्मलेन में 

दूसरे गोलमेज सम्मेलन की असफलता के बाद महात्मा गाँधी ने दुबारा सविनय अवज्ञा आन्दोलन प्रारंभ किया -  3 जनवरी 1932 ई. को 

रैम्जे मैकडोनाल्ड ने विवादास्पद ‘साम्प्रदायिक पंचाट' की घोषणा की - 16 अगस्त 1932 ई. को

पूना समझौता हुआ - 24 सितम्बर 1932 ई. को , लॉर्ड वेलिंगटन के समय

तीसरा गोलमेज सम्मेलन का आयोजन हुआ - 17 नवम्बर से 24 दिसम्बर 1932 ई. तक , लॉर्ड वेलिंगटन के समय

तीनों गोलमेज सम्मलेन हुए - लंदन में 

1934 ई. में बिहार में भयंकर भूकम्प आया - लॉर्ड वेलिंगटन के समय

भारत सरकार अधिनियम -1935 पास किया गया - लॉर्ड वेलिंगटन के समय

लॉर्ड वेलिंगटन ने काँग्रेस के किस अधिवेशन में हिस्सा लिया था - बम्बई अधिवेशन 1915 ई. में


लॉर्ड लिनलिथगो 1936-1943 ई. 

किसके समय में पहली बार चुनाव कराए गए - लॉर्ड लिनलिथगो के

द्वितीय विश्वयुद्ध प्रारंभ हुआ - 1 सितम्बर 1939 ई. को , लॉर्ड लिनलिथगो के समय

काँग्रेस ने 'न कोई भाई , न कोई पाईं' का नारा दिया - द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान

फारवर्ड ब्लॉक नाम की एक नयी पार्टी बनाई -  11 मई 1939 ई. को , सुभाष चन्द्र बोस ने

पहली बार पाकिस्तान की माँग की गयी - 1940 ई. में लीग के लाहौर अधिवेशन में

अगस्त प्रस्ताव अंग्रेजों के द्वारा लाया गया - 8 अगस्त , 1940 ई. को  

क्रिप्स मिशन भारत आया - 1942 में , लॉर्ड लिनलिथगो के समय

काँग्रेस ने 'भारत छोड़ो आन्दोलन' प्रारंभ किया - 9 अगस्त 1942 ई. को , लॉर्ड लिनलिथगो के समय

1943 ई. में बंगाल में भयानक अकाल पड़ा - लॉर्ड लिनलिथगो के समय


लॉर्ड वेवल  1944-1947 ई. 

शिमला समझौता हुआ - 1945 ई. में , लॉर्ड वेवल के समय

कैबिनेट मिशन भारत आया - 1946 ई. में
कैबिनेट मिशन के सदस्य थे - स्टेफोर्ड क्रिप्स , पैथिक लारेंस , ए . बी . अलेक्जेंडर 

प्रधानमंत्री लार्ड क्लीमेंट एटली ने हाउस ऑफ कॉमंस में यह घोषणा की कि जून 1948 ई. तक प्रभुसत्ता भारतीयों के हाथ में दे देंगे - 20 फरवरी , 1947 ई . को


लॉर्ड माउण्टबेटन  मार्च 1947 से जून , 1948 ई. 

माउण्ट बेटन योजना घोषित की गई - 3 जून , 1947 ई. को

ब्रिटिश संसद में एटली द्वारा भारतीय स्वतंत्रता विधेयक प्रस्तुत किया गया - 4 जुलाई 1947 ई. को 

भारत स्वतंत्र हुआ - 15 अगस्त 1947 ई. को 

स्वतंत्र भारत का प्रथम गवर्नर था - लॉर्ड माउण्टबेटन  

नोट : स्वतंत्र भारत के प्रथम एवं अंतिम भारतीय गवर्नर जेनरल चक्रवती राजगोपालाचारी हुए ।








Read More Posts
Important Links▼

Comments

Post a comment

Thanks for comment

Popular posts from this blog

जैन धर्म | महावीर स्वामी

जैन धर्म 
जैन धर्म से जुड़ी महत्पूर्ण जानकारी जैन धर्म से परीक्षा में पूछे जाने वाले महत्पूर्ण तथ्य 
जैन तीर्थकर के नाम एवं प्रतीक चिन्ह  जैन तीर्थकर   ⟺  प्रतीक चिन्ह
प्रथम तीर्थकर     ➤ ऋषभदेव    ➤ साँड द्वितीय तीर्थकर   ➤ अजितनाथ  ➤ हाथी  तृतीय तीर्थकर     ➤ घोड़ा          ➤ संभव सप्तम तीर्थकर    ➤ संपार्श्व        ➤ स्वास्तिक  सोलहवाँ तीर्थकर ➤ शांति          ➤ हिरण इक्कीसवें तीर्थकर➤ नामि           ➤ नीलकमल  बाइसवें तीर्थकर   ➤ अरिष्टनेमि   ➤ शंख तेइसवें तीर्थकर    ➤ सर्प             ➤ पार्श्व चौबीसवें तीर्थकर  ➤ महावीर       ➤सिंह 

बौद्ध धर्म | गौतम बुद्ध | बौद्ध धर्म से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी

बौद्ध धर्म
बौद्ध धर्म से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी ➧

बौद्ध धर्म बौद्ध धर्म के संस्थापक गौतम बुद्ध थे । गौतम बुद्ध को एशिया का ज्योति पुज्ज ( Light of Asia ) कहा जाता है ।
गौतम बुद्ध का जन्म हुआ - 563 ई. पू. में कपिलवस्तु के लुम्बिनी नामक स्थान पर 
गौतम बुद्ध की मृत्यु हुई - 483 ई. पू. में कुशीनारा,  देवरिया , उत्तर प्रदेश  में ( 80 वर्ष की अवस्था में ) गौतम बुद्ध की मृत्यु चुन्द द्वारा अर्पित भोजन करने के बाद हो गयी 
गौतम बुद्ध की मृत्यु को  बौद्ध धर्म में महापरिनिर्वाण कहा गया है ।

बुद्ध के जीवन से संबंधित बौद्ध धर्म के प्रतीक
गौतम बुद्ध के जन्म का प्रतीक ➣ कमल एवं सांड  गृहत्याग का प्रतीक ➣ घोड़ा ज्ञान का प्रतीक ➣ पीपल ( बोधि वृक्ष )  निर्वाण का प्रतीक ➣ पद चिह्न मृत्यु का प्रतीक ➣ स्तूप
गौतम बुद्ध के बचपन का नाम था ➣ सिद्धार्थ  
गौतम बुद्ध  पिता नाम था ➣ शुद्धोधन ( शाक्य गण के मुखिया थे )
गौतम बुद्ध की माता का नाम था ➣ मायादेवी ➤मायादेवी की मृत्यु गौतम बुद्ध के जन्म के सातवें दिन ही हो गई थी । ➤गौतम बुद्ध का लालन पालन गौतम बुद्ध की सौतेली माँ प्रजापति गौतमी ने किया था ।
गौतम बुद्ध की पत्नी का नाम था ➣ …