Skip to main content

भूगोल क्या है, अर्थ और परिभाषा

  
भूगोल :- अर्थ एवं परिभाषा 





भूगोल या  Geography संपूर्ण ब्रह्मांड में  मानव के निवास के रूप में वर्तमान समय तक प्रमाणित एकमात्र ग्रह 'पृथ्वी' के बारे में तथ्यात्मक विवरणों के साथ संपूर्ण अध्ययन करने वाला विज्ञान है विषय के रूप में भूगोल {भू+गोल} का शाब्दिक अर्थ (भू =पृथ्वी, गोल=गोल) "गोल पृथ्वी" हैं।

 अंग्रेजी भाषा का शब्द Geography  दो शब्दों से मिलकर बना है Geo= पृथ्वी तथा Grapho= वर्णन| इस प्रकार जियोग्राफी का अर्थ है "पृथ्वी का वर्णन"|

"इरेटोस्थनीज" प्रथम यूनानी वैज्ञानिक था, जिसने भूगोल के लिए "ज्योग्राफीका" शब्द का प्रयोग किया|उसने भूगोल को एक पृथक शास्त्र एवं विशिष्ट विज्ञान के रूप में स्थापित किया| हिकेटियस को भूगोल का पिता कहा जाता है उनकी प्रसिद्ध पुस्तक जेस पीरियोडस है। भूगोल के विकास में टॉलमी का योगदान भी उल्लेखनीय रहा है। उन्हें मानचित्र कला का जनक माना जाता है।

भूगोल से संबंधित परिभाषाएं:-

" भूगोल वह विज्ञान है जिसमें पृथ्वी को स्वतंत्र ग्रह के रूप में मान्यता देते हुए उसके समस्त लक्षणों घटनाओं एवं उनके  अंतरसंबंधों का अध्ययन किया जाता है"

" भूगोल एक ऐसा स्वतंत्र विषय है जिसका उद्देश्य लोगों को इस विश्व (भूमंडल) का, आकाशीय पिंडों का, स्थल, महासागर, जीव-जंतुओं, वनस्पतियों, फलो तथा भूधरातल के क्षेत्रो में देखे जाने वाली प्रत्येक अन्य वस्तु का ज्ञान प्राप्त कराना है"

" भूगोल में पृथ्वी के उस भाग का अध्ययन किया जाता है जो मानव के रहने का स्थान है"

"आधुनिक भूगोल मानव के भौतिक, प्राणीजैविक तथा सांस्कृतिक पर्यावरण की ओर हमारा ध्यानाकर्षण कराता है"

" भूगोल भूतल का अध्ययन है। यह भूतल के भिन्न-भिन्न भागों में पाई जाने वाली  भिन्नता की पृष्ठभूमि में की गई  व्याख्या है"

 भूगोल की शाखाएं:-
वर्तमान समय में भूगोल के अंतर्गत निम्नलिखित प्रमुख शाखाओं का अध्ययन किया जा रहा है।

1-  भौतिक भूगोल:- भौतिक भूगोल के अंतर्गत मानव से संबंधित भौतिक वस्तुओं, जैसे- पृथ्वी, समुद्र, वायुमंडल आदि के तत्व एवं इनमें परिवर्तन लाने वाले प्रकरणों का तथ्यपरक अध्ययन किया जाता है। विश्व रचना विज्ञान भू-आकृतिकी, भू आकृति विज्ञान, पर्वत विज्ञान, समुद्र विज्ञान, जलवायु विज्ञान, भूकम्प विज्ञान, पारिस्थितिकी, मौसम विज्ञान आदि इसकी प्रमुख शाखाएं हैं।

2- मानव भूगोल:- इस शाखा के अंतर्गत मानव के जन्म से लेकर वर्तमान समय तक उसके विकास, क्रियाकलापों, परिवर्तनों, स्थानांन्तरो का अध्ययन किया जाता है।


भूगोल से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य

⏺️ विश्व में सर्वप्रथम भौगोलिक ज्ञान का विकास भारत में हुआ।
⏺️भूगोल को एक अलग अध्ययनशास्त्र के रूप में प्रसिद्ध यूनानी विद्वान हिकेटियस ने स्थापित किया, अतैव इन्हें 'भूगोल का पिता' कहा जाता है ।
⏺️ भूगोल एक विज्ञान है क्योंकि इसमें धरातलीय आकृतियों के वर्णन के साथ ही पृथ्वी के विभिन्न आवरणों जल, वायु एवं स्थल आदि में कार्य करने वाली शक्तियों की उत्पत्ति; उनकी पारस्परिक अंतरक्रियाओं द्वारा उत्पन्न होती प्रक्रियाओं की उत्पत्ति एवं प्रभाव; किसी स्थान विशेष में सांस्कृतिक वातावरण की उत्पत्ति के तरीकों आदि के समान अनेकानेक प्रश्नों का 'क्यों', 'कहा', तथा 'कैसे' की सहायता से उत्तर प्राप्त किया जाता है।
⏺️ भूगोल के संपूर्ण विषय क्षेत्र को मुख्यत: चार आधारों पर समझा जा सकता है-
1- भूगोल पृथ्वी-तल का अध्ययन है।
2- भूगोल वातावरण एवं परिस्थितिकी का विज्ञान है।
3- भूगोल में प्रादेशिक विभिन्नताओं का अध्ययन किया जाता है।
4- भूगोल स्थानिक संगठनों की संरचनाओ एवं पारस्परिक क्रियाओं का अध्ययन है।



भौगोलिक अध्ययन का विकास काल:- भौगोलिक अध्ययन के विकास काल निम्नलिखित है-
1- चीरसम्मत या शास्त्रीय काल(600 ई.पू. से 300 ई. तक)
2- मध्यकाल(300 ई. से 1700 ई. तक)
3-  पूर्व आधुनिक शास्त्रीय काल(18 वीं शताब्दी)
4- आधुनिक काल(19 वीं शताब्दी से जारी)

⏺️भूगोल में प्रथम:-

                    
  1.  ऐतिहासिक भूगोल का पिता       -     हेरोडोटस      
  2. भूगोल का जनक।                     -   हिकेटियस
  3. आधुनिक भूगोल का जनक         - अलेक्जेण्डर वांन हम्बोल्ट
  4.  व्यवस्थित भूगोल का जनक।       -    इरैटाँस्थनीज
  5.  जियोग्राफी शब्द का प्रथम प्रस्तावक  - इरैटाँस्थनीज
  6.  आधुनिक खगोलिकी के जनक।     - निकोलस कॉपरनिकस                                                सर इसाक न्यूटन,जोहान्स                                               कैपलर व गैलीलियो गेलेली
  7. सूर्य केंद्रीय परिकल्पना के प्रतिपादक -निकोलस कॉपरनिकस
  8. सूर्य को केंद्र पर होने की धारणा व्यक्त करने वाला प्रथम विचारक           -           अरिस्तारकस
  9. पृथ्वी के आकार को गोल कहने वाला प्रथम विचारक- अरस्तू
  10. विषुवत रेखा की लंबाई ज्ञात करने का प्रथम प्रयास     -- इरैटाँस्थनीज
  11. भौतिक भूगोल का जनक      -    पोलिडोनियस
  12. सांस्कृतिक भूगोल का जनक  -   कार्ल-ओ-सावर
  13. गणितीय भूगोल के संस्थापक  - थेल्स व आनेग्जीमेण्डर
  14. मानव भूगोल का जनक     -     ब्लाँश
  15. मानव भूगोल में संभाव्यवाद विचारधारा के प्रवर्तक   - ओ.एच.के.स्पेट
  16. मानव प्रजातियों की सर्वप्रथम वर्गीकरण का श्रेय - वर्नियर
  17. पृथ्वी को नापने का आरम्भकर्ता         -     थेल्स
  18. लेबेन्स्त्रोम विचारधारा का जनक (भौगोलिक क्षेत्र जिसमें जीवों का विकास होता है)      -  फ्रेडरिक रैटजेल
  19.  विश्व ग्लोब का निर्माता         -   मार्टिन बैहम
  20. विश्व मानचित्र के निर्माणकर्ता   -  आनेग्जीमेण्डर
  21. भौगोलिक विश्वकोश का रचनाकार -  स्ट्रैबो
  22. वातावरणवाद के प्रणेता     -      हेरोडोटस
  23. मानचित्र पर याग्योत्तर खींचने का प्रथम प्रयास  - हेरोडोटस
  24. सांस्कृतिक भूगोल के प्रथम लेखक -   कार्ल-आटविन-सावर
  25. प्रादेशिक भूगोल के प्रथम अध्ययनकर्ता  -  हरबर्टसन
  26. मॉडल संकल्पना का जनक।     -   पीटर हैगेट
  27. अंत:सागरीय भू आकृतियों के वर्गीकरण की प्रणाली-हिजेन
  28. मानचित्र कला का जनक।     -   टॉलमी
  29. मानव भू-विज्ञान शब्द का प्रथम प्रयोगकरता -फ्रेडरिक रैटजेल
  30. संभववाद विचारधारा के जनक     -   बाल विडाल
  31. संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में भूगोल का प्रथम अध्यापक.     -                                                                   आर्नोल्ड गायोट
  32. अमेरिकी स्थलाकृति विज्ञान का पिता       -    डेविस
  33. ब्रिटेन में भूगोल का वास्तविक संस्थापक   -                                                                                 एच. जे. मैकिण्डर
  34. ऐतिहासिक भूगोल का संस्थापक   -     एच. जे. मैकिण्डर
  35.  रूस के प्रथम भूगोल अध्यापक.  -    वी. वी. दोखुश्चेब
  36.  रूसी भू-विज्ञान के जनक         -     लोमोनोसोव
  37. निकट संभववाद का प्रतिपादक  -  स्पेट
  38. आर्थिक भूगोल शब्द का प्रथम प्रयोगकर्ता  -  लोमोनोसोव
  39.  सागर तल प्रसार की परिकल्पना का प्रतिपादन   -  हैरी हेस
  40. प्लेट विवर्तनिकी सिद्धांत के प्रतिपादक        -       हैरी हेस
  41. प्लेट शब्द का प्रथम प्रयोगकरता।           -    विल्सन
  42. भूकंप उत्पत्ति क्षेत्र के खोजकर्ता।          -      ह्यू बेनी ऑफ
  43.  भौगोलिक चक्र परिकल्पना का प्रतिपादक।  -  डेविस  








 Buy Now. Price.1699rs.
Caster Oil 225ml. Price 175rs. Buy Now..


Read More Posts
Important Links▼


Comments

Post a comment

Thanks for comment

Popular posts from this blog

गवर्नर जनरल | वायसराय | कंपनी के अधीन गवर्नर जनरल तथा वायसराय

भारत में हुए गवर्नर जनरल तथा वायसराय

सभी गवर्नर जनरल / वायसराय की सूची तथा उनके समय में हुए महत्वपूर्ण कार्य 

रॉबर्ट क्लाइव 1757-60 एवं 1757-67
बंगाल में द्वैध शासन की व्यवस्था की - रॉबर्ट क्लाइव ने 
किसने मुगल सम्राट् शाह आलम द्वितीय को इलाहाबाद की द्वितीय संधि ( 1765 ई . ) के द्वारा कम्पनी के संरक्षण में ले लिया - रॉबर्ट क्लाइव ने 
बंगाल के गवर्नर को अंग्रेजी क्षेत्रों का गवर्नर - जनरल कहा जाने लगा - 1773 के रेग्यूलेटिंग एक्ट तहत

वारेन हेस्टिग्स 1774-85
भारत में कम्पनी के अधीन प्रथम गवर्नर - जनरल हुआ - वारेन हेस्टिंग्स 
किसने राजकीय कोषागार को मुर्शिदाबाद से हटाकर कलकत्ता लाया - वारेन हेस्टिग्स ने 
1781 में कलकत्ता में मुस्लिम शिक्षा के विकास के लिए प्रथम मदरसा स्थापित किया - वारेन हेस्टिग्स ने 
1782 में जोनाथन डंकन ने बनारस में संस्कृत विद्यालय की स्थापना की - वारेन हेस्टिग्स के समय 
गीता के अंग्रेजी अनुवादकार विलियम विलकिंस को आश्रय दिया था - वारेन हेस्टिग्स ने 
सर विलियम जोंस ने 1784 में द एशियाटिक सोसायटी ऑफ बंगाल की स्थापना की - वारेन हेस्टिग्स के समय 
मुगल सम्राट को मिलने वाला 26 रूपये की…

जैन धर्म | महावीर स्वामी

जैन धर्म 
जैन धर्म से जुड़ी महत्पूर्ण जानकारी जैन धर्म से परीक्षा में पूछे जाने वाले महत्पूर्ण तथ्य 
जैन तीर्थकर के नाम एवं प्रतीक चिन्ह  जैन तीर्थकर   ⟺  प्रतीक चिन्ह
प्रथम तीर्थकर     ➤ ऋषभदेव    ➤ साँड द्वितीय तीर्थकर   ➤ अजितनाथ  ➤ हाथी  तृतीय तीर्थकर     ➤ घोड़ा          ➤ संभव सप्तम तीर्थकर    ➤ संपार्श्व        ➤ स्वास्तिक  सोलहवाँ तीर्थकर ➤ शांति          ➤ हिरण इक्कीसवें तीर्थकर➤ नामि           ➤ नीलकमल  बाइसवें तीर्थकर   ➤ अरिष्टनेमि   ➤ शंख तेइसवें तीर्थकर    ➤ सर्प             ➤ पार्श्व चौबीसवें तीर्थकर  ➤ महावीर       ➤सिंह 

बौद्ध धर्म | गौतम बुद्ध | बौद्ध धर्म से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी

बौद्ध धर्म
बौद्ध धर्म से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी ➧

बौद्ध धर्म बौद्ध धर्म के संस्थापक गौतम बुद्ध थे । गौतम बुद्ध को एशिया का ज्योति पुज्ज ( Light of Asia ) कहा जाता है ।
गौतम बुद्ध का जन्म हुआ - 563 ई. पू. में कपिलवस्तु के लुम्बिनी नामक स्थान पर 
गौतम बुद्ध की मृत्यु हुई - 483 ई. पू. में कुशीनारा,  देवरिया , उत्तर प्रदेश  में ( 80 वर्ष की अवस्था में ) गौतम बुद्ध की मृत्यु चुन्द द्वारा अर्पित भोजन करने के बाद हो गयी 
गौतम बुद्ध की मृत्यु को  बौद्ध धर्म में महापरिनिर्वाण कहा गया है ।

बुद्ध के जीवन से संबंधित बौद्ध धर्म के प्रतीक
गौतम बुद्ध के जन्म का प्रतीक ➣ कमल एवं सांड  गृहत्याग का प्रतीक ➣ घोड़ा ज्ञान का प्रतीक ➣ पीपल ( बोधि वृक्ष )  निर्वाण का प्रतीक ➣ पद चिह्न मृत्यु का प्रतीक ➣ स्तूप
गौतम बुद्ध के बचपन का नाम था ➣ सिद्धार्थ  
गौतम बुद्ध  पिता नाम था ➣ शुद्धोधन ( शाक्य गण के मुखिया थे )
गौतम बुद्ध की माता का नाम था ➣ मायादेवी ➤मायादेवी की मृत्यु गौतम बुद्ध के जन्म के सातवें दिन ही हो गई थी । ➤गौतम बुद्ध का लालन पालन गौतम बुद्ध की सौतेली माँ प्रजापति गौतमी ने किया था ।
गौतम बुद्ध की पत्नी का नाम था ➣ …